The Chief Minister Approved the Recruitment of 2161 posts of teachers The Chief Minister Approved the Recruitment of 2161 posts of teachers - Study Govt Exam

Govt. Jobs की अपडेट सबसे पहले.

Saturday, September 26, 2020

The Chief Minister Approved the Recruitment of 2161 posts of teachers

 

The Chief Minister Approved the Recruitment of 2161 posts of teachers

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने 258 राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में योजना मद में 1290 अस्थाई पदों के सृजन को मंजूरी दी है। 
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 2161 पदों के लिए नई भर्ती को मंजूरी दे दी गई नई भर्ती का नोटिफिकेशन जल्द जारी किया जाएगा राजस्थान के 258 राज्य के उच्च माध्यमिक विद्यालयों में 1290 अस्थाई पदों के लिए मंजूरी दी गई है  इस प्रकार कुल मिलाकर 2161 पदों के लिए मंजूरी दे दी गई है इन पदों के लिए जल्द विज्ञापन जारी किया जाएगा जिसके जानकारी अभ्यर्थी समय-समय पर आरपीएससी की ऑफिशल वेबसाइट पर विजिट करते रहे नोटिफिकेशन आने के बाद में हमारी इस वेबसाइट पर भी पूरी जानकारी उपलब्ध करा दी जाएगी

नवसृजित अस्थाई पदों में 258 प्रधानाचार्य, 774 व्याख्याता स्कूल शिक्षा एवं 258 पद अध्यापक (एल-10) के हैं। जिन नवक्रमोन्नत विद्यालयों में नामांकन शून्य अथवा न्यून है उनमें नामांकन वृद्धि के प्रभावी प्रयास किये जाने होंगे।

नवक्रमोन्नत माध्यमिक विद्यालयों में 871 अस्थाई पद सृजित

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में नवक्रमोन्नत 65 राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में 845 एवं नवक्रमोन्नत अन्य 2 विद्यालयों में 26 पद यानि कुल 871 अस्थाई पदों का सृजन करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। 845 अस्थाई पदों में से 65 पद प्रधानाध्यापक के, 390 पद वरिष्ठ अध्यापक के, 65 पद शारीरिक शिक्षक ग्रेड तृतीय के, 260 पद अध्यापक (एल-10) एवं कनिष्ठ सहायक के 65 पद शामिल है। नवक्रमोन्नत राजकीय बालिका माध्यमिक विद्यालय अणखिया (बाड़मेर) तथा राजकीय माध्यमिक विद्यालय बोसीफला, साबला (डूंगरपुर) में 26 पद सृजित किये गये हैं।

कृषि विश्वविद्यालय जोबनेर में 30 अशैक्षिणक पद सृजित

मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने श्री कर्ण नरेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय, जोबनेर में 30 नये अशैक्षिणक पदों के सृजन के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी। इन पदों का संस्थापन व्यय राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा। इन नवीन पदों के सृजन से विश्वविद्यालय प्रशासन संचालित करने में सुगमता होगी।


No comments:

Post a Comment