राजस्थान निःशुल्क ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्र योजना: ऑनलाइन आवेदन व पात्रता राजस्थान निःशुल्क ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्र योजना: ऑनलाइन आवेदन व पात्रता - Study Govt Exam

Govt. Jobs की अपडेट सबसे पहले.

Sunday, January 17, 2021

राजस्थान निःशुल्क ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्र योजना: ऑनलाइन आवेदन व पात्रता

राजस्थान निशुल्क ट्रेक्टर कृषि यंत्र योजना ऑनलाइन आवेदन पात्रता

राजस्थान निशुल्क ट्रेक्टर कृषि यंत्र योजना ऑनलाइन आवेदन पात्रता:राजस्थान निशुल्क ट्रेक्टर कृषि यंत्र योजना की शुरुआत राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के द्वारा की गई है यह योजना राज्य के छोटे व सीमांत किसानों को लाभ प्रदान करने के लिए की गई है राजस्थान निशुल्क ट्रेक्टर कृषि यंत्र योजना के तहत राज्य के जरूरतमंद छोटे कर किसानों से मान किसानों को अपने खेतों की फसल कटाई अरे सिंह व अन्य कशी गतिविधियों के लिए निशुल्क ट्रेक्टर कृषि यंत्र किराए पर उपलब्ध कराए जाते हैं देश में लोक डाउन के बीच राजस्थान में किसानों को कृषि यंत्र योजना निशुल्क उपलब्ध कराने की भी लाभदायक है राज्य सरकार की योजना से अब तक 4 हजार से अधिक किसानों को फायदा हो चुका है

राजस्थान निशुल्क ट्रेक्टर कृषि यंत्र योजना

राजस्थान कृषि यंत्र निशुल्क योजना के तहत 8000 से अधिक घंटे की सेवा दी जा चुकी है आज किसानों को कृषि यंत्रों को निशुल्क सुविधा 30 जून तक प्रदान की जाएगी इस निशुल्क ट्रेक्टर कृषि यंत्र योजना के अंतर्गत राजस्थान के जरूरतमंद पात्र किसानों को रजिस्टर्ड एवं चित्र के माध्यम से सेवा दी जाती है जिसमें उनको ट्रेक्टर कृषि यंत्र उद्योग किराए पर दिए जाते हैं इस योजना का मुख्य उद्देश्य कृषि यंत्रों को किसानों को उपलब्ध कराकर अच्छी पैदावार में सहायता प्रदान करना है
जिसमें प्रदेश में 11 हजार ट्रैक्टर व 50 हजार कृषि संयंत्र उपलब्ध कराए गए हैं। इस दौरान काम आने वाले ट्रैक्टर व संयंत्रों का किराया कम्पनी देगी। इस योजना का लाभ उठाने में सीकर जिला प्रथम स्थान पर और अलवर जिला दूसरे स्थान पर है। तीसरे स्थान पर जयपुर, चौथे स्थान पर भरतपुर व पांचवें स्थान पर झुंझुनूं रहा है। अलवर जिले में इस योजना से 2 हजार 909 किसानों ने लाभ प्राप्त किया है। इससे जिले में 5 हजार 590 हैक्टेयर क्षेत्र में कृषि कार्य हुआ है। इन किसानों को मिलेगा इस योजना का लाभ : इस योजना का लाभ उन लघु एवं सीमांत किसानों को मिल सकता है जिनके पास 2 हैक्टेयर से कम भूमि है। योजना से जुडऩे के लिए किसान का उस राज्य का मूल निवासी होना आवश्यक है जिस राज्य में वह इस योजना से जुडऩा चाहता है।

Rajasthan free tractor and agricultural machine scheme के लाभ

  • इस योजना का लाभ राज्य के छोटे और सीमांत किसानो को प्रदान किया जायेगा |
  • राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी इस योजना का लाभ उठाना चाहते है तो उन्हें सबसे पहले इस योजना के तहत आवेदन करना होगा |
  • रजास्थान के जो आर्थिक रूप से कमज़ोर छोटे और सीमांत किसान है उन्हें लॉक डाउन की वजह से कृषि कार्य करने में दिखात आ रही है तो उन्हें इस योजना के अंतर्गत  फसल कटाई, थ्रेसिंग एवं अन्य कृषि गतिविधियों के लिए निशुल्क राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराये जायेगे |
  • निःशुल्क ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्र स्कीम के तहत अब तक करीब 4 हजार किसानों को 8 हजार घंटे से अधिक की सेवा दी जा चुकी है | यह मुफ्त सेवा आगामी 30 जून तक जारी रहेगी |
  • यह योजना राज्य के किसानो के मिए फायदेमंद साबित होगी |
  • कृषि उत्‍पादन में आधुनिक कृषि यंत्रों के योगदान को दृष्टिगत रखते हुये अनुमोदित कृषि यंत्रों को क्रय करने पर कृषकों की श्रेणी के अनुसार 40 से 50 प्रतिशत तक अनुदान दिया जाता है |

निःशुल्क ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्र योजना के दस्तावेज़ (पात्रता )

  1. आवेदक राजस्थान राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए |
  2. इस योजना के तहत राज्य के आर्थिक रूप से कमज़ोर छोटे और सीमांत किसान पात्र होंगे |
  3. राज्य के किसानो के पास खेती योग्य भूमि होनी चाहिए |
  4. आधार कार्ड
  5. निवास प्रमाण पत्र
  6. किसानो की खेती के कागज़ात
  7. मोबाइल नंबर
  8. पासपोर्ट साइज फोटो

राजस्थान निःशुल्क ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्र योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करे ?

राज्य के जो छोटे और सीमांत किसान इस योजना के तहत सरकार द्वारा निशुल्क कृषि यंत्र और टेक्टर की सुविधा प्राप्त  करना चाहते है तो वह नीचे दिए गए तरीके को फॉलो करे | हम आपको बताएगी आप  इस योजना का लाभ कैसे उठाये
राज्य के आर्थिक रूप से कमजोर लघु एवं सीमांत किसान मुफ्त में किराए की इस योजना का लाभ उठाने के लिए जेफार्म सर्विसेज से सम्पर्क कर सकते हैं |
अगर काश्तकार पहले से जेफार्म सर्विसेज में पंजीकृत हैं और किराए पर ट्रैक्टर एवं अन्य उपकरण के लिए ऑर्डर करना चाहते हैं तो ए लिखकर संदेश भेजें |
अगर पंजीकृत नहीं हैं तो बी संदेश भेजें |








No comments:

Post a Comment